National Wheels

गांव-गांव 5 मई से तलाशे जाएंगे कोरोना मरीज, ग्राम पंचायत और प्राइमरी साकूल बनेंगे क्वारंटीन सेंटर

गांव-गांव 5 मई से तलाशे जाएंगे कोरोना मरीज, ग्राम पंचायत और प्राइमरी साकूल बनेंगे क्वारंटीन सेंटर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी को लेकर सरकार ने चार मई को मानवीय कदम उठाया है। सरकार ने तय किया है कि अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी परिजनों को उपलब्ध कराई जाएगी। साथ ही नए मरीजों की संख्या कमी होने लगी है।

अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ नवनीत सहगल ने बताया कि प्रदेश में 30 अप्रैल, 2021 को 02 लाख 44 हजार टेस्ट हुए, 34 हजार कोविड केस आये तथा 32 हजार कोविड-19 से ठीक हुए थे। 03 मई, 2021 को 02 लाख 29 हजार टेस्ट हुए, 29 हजार कोविड केस आये तथा 38 हजार कोविड-19 से ठीक हुए थे। प्रदेश में कोविड संक्रमित लोगों की पहचान कर उनका कोविड टेस्ट कराने हेतु सर्विलांस टीम लोगों के घर-घर जा रही है। इस अभियान के तहत प्रदेश की 24 करोड़ जनसंख्या में से अब तक 16.46 करोड़ जनसंख्या तक स्वास्थ्य विभाग पहुंचा है। उन्होंने बताया कि अब तक 04 करोड़ से अधिक कोविड-19 के टेस्ट हो चुके हैं तथा विगत 24 घण्टों में 2,08,558 कोविड-19 के टेस्ट किये गये हैं।

प्रदेश सरकार द्वारा 05 मई, 2021 से 09 मई, 2021 तक ग्रामीण क्षेत्रों में एक विशेष अभियान चलाकर 97 हजार राजस्व गावों में घर-घर जाकर लोगों से सम्पर्क से सम्पर्क किया जायेगा और आरआर टीम के द्वारा लक्षणयुक्त वाले लोगों का एन्टीजन टेस्ट किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इस कार्य के लिए निगरानी समितियों के पास 10 लाख मेडिसिन किट तथा आरआर टीम के पास 10 लाख एन्टीजन किट उपलब्ध करायी जायेगी। इस अभियान के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों मे कोविड लक्षणयुक्त लोगों की पहचान कर उनका एन्टीजन टेस्ट कराते हुए उनकों निशुल्क मेडिसिन किट उपलब्ध कराते हुए उपचार किया जायेगा। उन्होंने बताया कि टेस्ट की रिपोर्ट और मरीज की स्थिति के आधार पर उसे होम आइसोलेशन, इंस्टिट्यूशनल क्वारन्टीन अथवा अस्पताल में इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। होम आइसोलेशन में रखे जाने से पूर्व मरीज को मेडिकल किट दी जाए और उसे जरूरी सावधानियों के बारे में विधिवत जानकारी दी जायेगी। ग्राम पंचायत/स्कूलों में क्वारंटीन सेंटर बनाये जाएंगे। इन क्वारंटीन सेंटरों में रहने वाले लोगों की देखभाल एवं खान-पान की व्यवस्था सरकार करेगी।

परिजनों को मिलेगी भर्ती मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी

श्री सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा आज कोविड-19 की समीक्षा की गयी। मुख्यमंत्री ने कहा है कि अस्पतालों में सेवारत चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ को कोविड सेवा के दिवसों के लिए वर्तमान वेतन/मानदेय का 25 फीसदी अतिरिक्त दिया जायेगा। इसी प्रकार अन्य कोरोना वॉरियर्स के लिए भी अतिरिक्त मानदेय प्रदान किया जाएगा। मेडिकल/नर्सिंग अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं की सेवाएं भी कोविड सेवा कार्य में ली जाएंगी, उन्हें भी मानदेय प्रदान किया जाएगा। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा सभी अस्पतालों में अपने स्टाफ में से 08-08 घण्टे की शिफ्टवार में एक अधिकारी नियुक्त किये जाएंगे। नियुक्त अधिकारियों की यह जिम्मेदारी होगी कि आने वाले कोविड मरीजों को भर्ती कराने के साथ-साथ समुचित उपचार कराएंगे। यही नहीं, अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजन को दिन में एक बार मरीज को कौन सी दवा दी जा रही है, मरीज की हालत कैसे है आदि बातों की जानकारी दी जायेगी। उन्होंने बताया कि इसकी माॅनीटरिंग स्वयं मुख्यमंत्री जी द्वारा तथा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन द्वारा की जायेगी।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का पैनल तैयार

श्री सहगल ने बताया कि कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सरकार सतत आवश्यक कदम उठा रही है। प्रदेशव्यापी साप्ताहिक बंदी को दो दिन और विस्तार दिया गया है। अब प्रदेश में 06 मई प्रातः 07 बजे तक आंशिक कोरोना कर्फ्यू प्रभावी रहेगा। इस अवधि में दवा, सब्जी की दुकानें, औद्योगिक इकाइयां आदि सतत संचालित रहेंगी। उन्होंने बताया कि कोविड पर प्रभावी नियंत्रण और आवश्यक रणनीति के लिए राज्य स्तर पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों का एक सलाहकार पैनल तैयार कर लिया गया है। यह पैनल राज्य स्तरीय टीम-09 को समय-समय पर आवश्यक परामर्श देगी। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का परामर्श रणनीति तैयार करने में उपयोगी होगा।

यूपी को मिला 788एमटी ऑक्सीजन

एसीएस श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश में ऑक्सीजन की प्रतिदिन बढ़ोत्तरी करते हुए आपूर्ति सुनिश्चित कराई जा रही है। इसी क्रम में 788 मी0टन आॅक्सीजन की सप्लाई की गयी है। 10 टैंकर वाली एक विशेष ऑक्सिजन एक्सप्रेस आज दोपहर में लखनऊ आ रही है। अगले एक-दो दिवस के भीतर जामनगर (गुजरात) से 40 टन ऑक्सीजन के साथ ऑक्सीजन एक्सप्रेस आएगी।

आज मुख्यमंत्री द्वारा कैंसर अस्पताल का उद्घाटन किया गया। इस अस्पताल में 100 आक्सीजनयुक्त बेड हैं। उन्होंने बताया कि डीआरडीओ द्वारा भी कोविड अस्पताल तैयार किया जा रहा है जिसे मुख्यमंत्री जी द्वारा 02 दिन में पूरा करने के लिए कहा गया है। इसके अतिरिक्त एचएल द्वारा भी कोविड अस्पताल तैयार किया जा रहा है जिसकी माॅनीटरिंग करने के लिए जिलाधिकारी लखनऊ को कहा गया है।

कल से होगा खाद्यान्न वितरण, चलेंगे सामुदायिक भोजनालय

श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश में कल से खाद्यान्न वितरण शुरू किया जा रहा है। यह खाद्यान्न वितरण प्रत्येक सेक्टर में कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए निःशुल्क किया जायेगा। उन्होंने बताया कि कन्टेनमेंट जोन में डोर टू डोर होम डिलीवरी की जायेगी। आंशिक कोरोना कर्फ्यू के कारण कहीं भी किसी श्रमिक, ठेला, रेहड़ी व्यवसायी, दैनिक मजदूर आदि को भोजन की समस्या न हो, ऐसे में सामुदायिक भोजनालयों के संचालन किया जायेगा। इसके लिए आवश्यक प्रबंध करने के लिए कृषि उत्पादन आयुक्त की समिति को मुख्यमंत्री द्वारा कहा गया है। प्रदेश में साप्ताहिक बंदी के दौरान औद्योगिक इकाइयां बंद नहीं रखी गयी है तथा स्थानीय प्रशासन को यह कहा गया है कि वे औद्योगिक इकाइयों में काम करने वाले लोगों के पहचान पत्र की उनके आने-जाने के पास है।

सूबे में 25858 नए मरीज, 38683 स्वस्थ हुए

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में बड़ी संख्या में टेस्टिंग कार्य करते हुए, टेस्टिंग क्षमता निरन्तर बढ़ायी जा रही है। गत एक दिन में कुल 2,08,558 सैम्पल की जांच की गयी, जिसमें से 01 लाख 18 हजार से अधिक आरटीपीसीआर में माध्यम से जांच की गई। प्रदेश में अब तक कुल 4,18,00,223 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 25,858 नये मामले आये हैं तथा 38,683 मरीज संक्रमणमुक्त हुए हैं। प्रदेश में कुल कोरोना के एक्टिव मामलों में से 2,22,876 व्यक्ति होम आइसोलेशन में हैं, इसके अतिरिक्त मरीज सरकारी एवं निजी चिकित्सालायों में इलाज करा रहे है।

1.24 करोड़ को लगी वैक्सीन

अब तक 1,04,63,033 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी गई तथा पहली डोज वाले लोगों में से 24,50,536 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। इस प्रकार कुल 1,29,13,569 वैक्सीन की डोज लगायी जा चुकी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 18 से 44 वर्ष वाले लोगों के साथ-साथ 45 वर्ष से अधिक आयु वालों का वैक्सीनेशन चल रहा है, जिसमें लोग बढ़-चढ़कर अपना टीकाकरण करा करे है। कोविड वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। कोविड वैक्सीन लगाने के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन करे।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *