Home » होमगार्डों पर योगी सरकार मेहरबान, …तो नामिनी को मिलेगी 5 लाख की मदद
उत्तर प्रदेश न्यूज

होमगार्डों पर योगी सरकार मेहरबान, …तो नामिनी को मिलेगी 5 लाख की मदद

उत्तर प्रदेश सरकार ने विपरीत परिस्थितियों में भी पुलिस के साथ कंधा से कंधा मिलाकर काम करने वाले होमगार्डों को बड़ी सौगात दी है। मंगलवार को हुई योगी कैबिनेट की बैठक में फैसला किया गया कि सेवावधि के अंदर मृत्यु या स्थायी अपंगता की स्थिति में नामिनी अथवा उत्तराधिकारी को 5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी। यह फैसला 06 दिसम्बर, 2020 से लागू होगी।

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि मंत्रिपरिषद ने होमगार्ड्स स्वयंसेवकों एवं अवैतनिक अधिकारियों की सेवावधि में (अधिवर्षता से पूर्व) मृत्यु की दशा में उनके नॉमिनी/उत्तराधिकारी को अथवा स्थायी अपंगता की स्थिति में उनको 05 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी। इसके अलावा यदि एक अंग अथवा एक आंख की पूर्ण रूप से हानि होने की दशा में 2.5 लाख रुपये की अनुग्रह धनराशि दिये जाने के प्रस्ताव को अनुमोदित कर दिया है।

साथ ही, मंत्रिपरिषद ने सामाजिक सुरक्षा बीमा योजना के अन्तर्गत ड्यूटी/प्रशिक्षणरत होमगार्ड्स स्वयंसेवकों एवं अवैतनिक अधिकारियों को दुर्घटना के कारण मृत्यु होने एवं अपंगता होने की दशा में बीमा कम्पनी द्वारा दी जाने वाली धनराशि की व्यवस्था को तथा जो होमगार्ड्स स्वयंसेवक एवं अवैतनिक अधिकारी दुर्घटना बीमा से आच्छादित नहीं होते हैं, उनको उत्तर प्रदेश होमगार्ड्स स्वयंसेवक कल्याण कोष नियमावली 2013 के प्रस्तर-4(क) 1, 2, 3, व 4 के अनुसार दी जाने वाली धनराशि की व्यवस्था को समाप्त करने का निर्णय भी लिया है।

राज्य विधान मण्डल का आगामी सत्र 17 अगस्त, 2021 से

मंत्रिपरिषद ने राज्य विधान मण्डल के दोनों सदनों का वर्ष 2021 का द्वितीय सत्र (वर्षाकालीन सत्र) 17 अगस्त, 2021 को आहूत कर लिये जाने के प्रस्ताव को अनुमोदित कर दिया है।

ज्ञातव्य है कि राज्य विधान मण्डल के दोनों सदनों का विगत सत्र दिनांक 18 फरवरी, 2021 को आहूत किया गया था। इस सत्र में विधान सभा एवं विधान परिषद की अंतिम बैठक दिनांक 04 मार्च, 2021 को हुई थीं। तत्पश्चात् दोनों ही सदनों का सत्रावसान भी दिनांक 30 मार्च, 2021 से कर दिया गया था।

संविधान के अनुच्छेद 174 के खण्ड (1) में यह व्यवस्था है कि विधान मण्डल के प्रत्येक सदन के एक सत्र की अंतिम बैठक और आगामी सत्र की प्रथम बैठक के लिए नियत तारीख के बीच 06 माह का अन्तर नहीं होगा। चूंकि विगत सत्र में विधान सभा एवं विधान परिषद की अंतिम बैठक दिनांक 04 मार्च, 2021 को हुई थी, अतः इस संवैधानिक व्यवस्था के क्रम में विधान मण्डल का आगामी सत्र दिनांक 04 सितम्बर, 2021 से पूर्व आहूत किया जाना अपेक्षित है।