Home » यूपी बोर्डः बिना परीक्षा हाईस्कूल में 99.53 और इंटर में 97.88 फीसदी छात्र उत्तीर्ण
उत्तर प्रदेश न्यूज प्रेस रिलीज़

यूपी बोर्डः बिना परीक्षा हाईस्कूल में 99.53 और इंटर में 97.88 फीसदी छात्र उत्तीर्ण

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद, प्रयागराज की वर्ष 2021 की हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट का परीक्षाफल घोषित कर दिया गया है। हाईस्कूल परीक्षा में कुल 29,96,031 परीक्षार्थियों में से 29,82,055 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए, हाईस्कूल का उत्तीर्ण प्रतिशत 99.53 है। इण्टरमीडिएट परीक्षा में कुल 26,10,247 परीक्षार्थियों में से 25,54,813 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं, इण्टरमीडिएट का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.88 है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद प्रयागराज की वर्ष 2021 की हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट का परीक्षाफल घोषित कर दिया गया है। परीक्षाफल माध्यमिक शिक्षा परिषद की वेबसाइट एनआईसी की वेबसाइट पर हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट का परीक्षाफल प्रदर्शित कर दिया गया है।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2021 की हाईस्कूल परीक्षा में 29,96,031 तथा इण्टरमीडिएट की परीक्षा में 26,10,247 इस तरह कुल 56,06,278 परीक्षार्थी पंजीकृत हुये थे। उन्होंने बताया कि रिजल्ट बनवाने में एनआईसी का भी सहयोग रहा।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा विनय कुमार पांडेय ने बताया कि वर्ष 2021 की हाईस्कूल परीक्षा में कुल 29,96,031 परीक्षार्थियों में से 29,82,055 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए। हाईस्कूल का उत्तीर्ण प्रतिशत 99.53 है। इन परीक्षार्थियों में 16,76,916 बालक तथा 13,19,115 बालिकायें हैं, जिनमें से 16,68,868 बालक तथा 13,13,187 बालिकायें उत्तीर्ण हुई हैं। बालकों का उत्तीर्ण प्रतिशत 99.52 तथा बालिकाओं का उत्तीर्ण प्रतिशत 99.55 है। सम्पूर्ण परीक्षार्थियों में बालिकाओं का उत्तीर्ण प्रतिशत बालकों के उत्तीर्ण प्रतिशत से 0.03 अधिक है। 82,238 परीक्षार्थियों को सामान्य प्रोन्नति दी गयी है।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा श्री विनय कुमार पांडेय ने बताया कि वर्ष 2021 की इण्टरमीडिएट परीक्षा में कुल 26,10,247 परीक्षार्थियों में से 25,54,813 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। इण्टरमीडिएट का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.88 है। इन परीक्षार्थियों में  14,74,317 बालक तथा 11,35,930 बालिकायें हैं, जिनमें से 14,37,033 बालक तथा 11,17,780 बालिकायें उत्तीर्ण हुई हैं। बालकों का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.47 तथा बालिकाओं का उत्तीर्ण प्रतिशत 98.40 है। सम्पूर्ण परीक्षार्थियों में बालिकाओं का उत्तीर्ण प्रतिशत बालकों के उत्तीर्ण प्रतिशत से 0.93 अधिक है। 62,506 परीक्षार्थियों को सामान्य प्रोन्नति दी गयी है।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने बताया कि कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण शिक्षण कार्य बाधित होने के फलस्वरुप छात्र/छात्राओं हेतु वर्चुअल क्लासेस की व्यवस्था दूरदर्शन के स्वयंप्रभा चौनल ई-विद्या-9, ई-विद्या-11, विभागीय यूटयूब चैनल, दीक्षा एप एवं ई-पाठशाला आदि विविध माध्यमां से करायी गयी। इसके साथ ही प्रधानाचार्यों, शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को जोड़ने हेतु व्हाटसएप ग्रुप बनाकर वर्चुअल माध्यम से शिक्षण कार्य सम्पादित कराया गया। कोरोना वायरस (कोविड-19) से उत्पन्न असाधारण परिस्थितियों में शिक्षण कार्य बाधित होने के फलस्वरुप छात्र/छात्राओं के शैक्षिक पाठ्यक्रम में 30 प्रतिशत की कमी की गयी। विद्यालयों में नियमित पठन पाठन सुचारु रुप से संचालित किये जाने हेतु 19 अक्टूबर 2020 से विद्यालय खोले गये। छात्र/छात्राओं के पठन पाठन की तैयारियों के आंकलन हेतु माध्यमिक शिक्षा परिषद के शैक्षिक पंचांग में प्रथम बार प्री-बोर्ड परीक्षा कराये जाने की व्यवस्था निर्धारित की गयी। माह फरवरी 2021 में इण्टरमीडिएट की प्रयोगात्मक परीक्षायें सम्पादित करा ली गयीं। कोरोना वायरस (कोविड-19) की द्वितीय लहर के कारण उत्पन्न असाधारण परिस्थितियों के फलस्वरुप छात्र हित में माध्यमिक शिक्षा परिषद, उ0प्र0 प्रयागराज द्वारा संचालित विद्यालयों में शैक्षिक सत्र 2020-21 हेतु कक्षा-10 एवं 12 की बोर्ड परीक्षा निरस्त करने का निर्णय लिया गया।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने बताया कि हाईस्कूल की लिखित परीक्षा कें अंको के आगणन हेतु कक्षा-9 की वार्षिक लिखित परीक्षा के प्राप्तांक तथा कक्षा-10 की प्री-बोर्ड लिखित परीक्षा के प्राप्तांक को सम्मिलित करते हुये परीक्षाफल तैयार कराया गया। उन्होंने बताया कि इण्टरमीडिएट की लिखित परीक्षा कें अंको के आगणन हेतु प्रत्येक परीक्षार्थी के कक्षा-10 की बोर्ड परीक्षा के प्राप्तांक, कक्षा-11 की वार्षिक परीक्षा के प्राप्तांक (वार्षिक परीक्षा के प्राप्तांक उपलब्ध न होने पर कक्षा-11 की अर्द्धवार्षिक परीक्षा के प्राप्तांक) तथा कक्षा-12 की प्री-बोर्ड परीक्षा के प्राप्तांक को सम्मिलित करते हुये परीक्षाफल तैयार कराया गया। वर्ष 2021 की परीक्षा में मेरिट लिस्ट तैयार नहीं की गई है। अनुत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या में अनुपस्थित एवं विदहेल्ड परीक्षार्थी (जिन परीक्षार्थियों के अभिलेख पूरे नहीं हैं अथवा उनके अंकपत्र आदिके विवरण त्रुटिपूर्ण हैं)सम्मिलित हैं। ऐसे परीक्षार्थी जो अंक आगणित करने पर लिखित भाग में न्यूनतम उत्तीर्णांक प्राप्त नही कर सके परन्तु आन्तरिक मूल्यॉकन में उत्तीर्ण हैं उनको बिना अंक के सामान्य प्रोन्नति प्रदान की गयी।

निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने बताया कि ऐसे परीक्षार्थी (संस्थागत/व्यक्तिगत) जिनके कक्षा-9/11 की वार्षिक परीक्षा अथवा कक्षा 10/12 की प्री-बोर्ड परीक्षा के अंक उपलब्ध नही है उन्हें बिना अंको के सामान्य रूप से प्रोन्नत कर दिया गया। वर्ष 2021 के पंजीकृत परीक्षार्थी जो अंक सुधार हेतु पुनः परीक्षा में सम्मिलित होना चाहते हैं उन्हे आगामी बोर्ड परीक्षा में शुल्क दिये बिना अंक सुधार हेतु एक या एक से अधिक कितने भी विषयों में परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जायेगा तथा उनका परीक्षाफल वर्ष 2021 का ही माना जायेगा।