Home » तेलंगानाः पालमपेट में स्थित रुद्रेश्वर मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल की सूची में
न्यूज लाइफस्टाइल

तेलंगानाः पालमपेट में स्थित रुद्रेश्वर मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल की सूची में

अब तक की एक और ऐतिहासिक उपलब्धि में तेलंगाना राज्य में वारंगल के पास मुलुगु जिले के पालमपेट में स्थित रुद्रेश्वर मंदिर (जिसे रामप्पा मंदिर के रूप में भी जाना जाता है) को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल की सूची में अंकित किया गया है।

यह निर्णय 25 जुलाई को यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 44वें सत्र में लिया गया। रामप्पा मंदिर, 13वीं शताब्दी का अभियंत्रिकीय चमत्कार है जिसका नाम इसके वास्तुकार, रामप्पा के नाम पर रखा गया था। इस मंदिर को सरकार द्वारा वर्ष 2019 के लिए यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में एकमात्र नामांकन के लिए प्रस्तावित किया गया था।

यूनेस्को ने आज एक ट्वीट में घोषणा करते हुए कहा, “अभी-अभी विश्व धरोहर स्थल के रूप में अंकित: काकतीय रुद्रेश्वर मंदिर (रामप्पा मंदिर), भारत के तेलंगाना में। वाह-वाह!”

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यूनेस्को द्वारा काकतीय रामप्पा मंदिर को विश्व धरोहर स्थल घोषित किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने लोगों से इस अद्भुत मंदिर परिसर को देखने और इसकी भव्यता का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने का भी आग्रह किया।

यूनेस्को के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा;

“बहुत बढ़िया! सभी को, खासकर तेलंगाना के लोगों को बधाई। यह प्रतिष्ठित रामप्पा मंदिर महान काकतीय राजवंश के उत्कृष्ट शिल्प कौशल को दर्शाता है। मैं आप सभी से इस भव्य मंदिर परिसर को देखने और इसकी भव्यता का प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त करने का आग्रह करता हूं।”  

इसी बैठक में ईरान की रेल को भी हैरिटेज साइट में स्थान दिया गया है।