Home » जासूसी मजदूर आंदोलन पर हमला, 26 जुलाई को सभी शाखाओं पर प्रदर्शन- AIRF
देश न्यूज

जासूसी मजदूर आंदोलन पर हमला, 26 जुलाई को सभी शाखाओं पर प्रदर्शन- AIRF

पेगासस सॉफ्टवेयर के जरिए जासूसी का उठा तूफान हमने कि 50 दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। विपक्षी पार्टियों के हमलावर रुख के बाद रेलवे कर्मचारी संगठन ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के महामंत्री और जेसीएम के नेता शिव गोपाल मिश्रा का नाम भी जासूसी से प्रभावित लोगों में आया है, इसका दावा खुद एआईआरएफ महामंत्री ने किया है। बृहस्पतिवार को एआईआरएफ की हुई आपातकालीन बैठक में देशभर में रेलवे परिसरों में 26 जुलाई को धरना-प्रदर्शन और कर्मचारियों को जागरूक करने का फैसला किया गया है।

“नेशनल व्हील्स” से बातचीत में एआईआरएफ महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा ने कहा कि पेगासस सॉफ्टवेयर के जरिए जासूसी से प्रभावित लोगों में उनका भी नाम सामने आया है। वह कर्मचारी संगठन का प्रतिनिधित्व करते हैं। यह केवल एआईआरएफ या किसी व्यक्ति या जेसीएम स्टाॅफ साइड की नहीं, पूरे मजदूर आंदोलन पर हमला है।

आपातकालीन बैठक में तय किया गया है कि 26 जुलाई को एआईआरएफ से संबद्ध सभी रेलवे कर्मचारी संगठनों की शाखाएं अपनी-अपनी ब्रांचों में दोपहर को धरना-प्रदर्शन करेंगी। साथ ही कर्मचारियों को भी जागरूक कर इसके दुष्परिणामों की जानकारी दी जाएगी। बड़ी संख्या में कर्मचारियों को इस जासूसी कांड के बारे में जानकारी नहीं है कि कैसे लोकतंत्र को खत्म किया जा रहा है। लड़ने वाले लोगों की जासूसी कराई जा रही है। इसलिए उन्हें इसके बारे में जागरूक किया जाएगा।

बताया कि 28 जुलाई को कार्यकारिणी की बैठक है। फिर, 29-30 जुलाई को एजीएम होनी है। इसमें इस पूरे प्रकरण पर विस्तार से चर्चा की जाएगी। साथ ही यह भी तय किया जाएगा कि सरकार के खिलाफ क्या रुख अपनाया जाए? शिवगोपाल मिश्रा ने कहा कि इस आंदोलन में दूसरे संगठनों को भी साथ लिया जाएगा।