Home » बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की बढ़ीं मुश्किलें
अपराध न्यूज

बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की बढ़ीं मुश्किलें

उमा शंकर गुप्ता

प्रयागराजः बांदा जेल में सजा काट रहे बीएसपी के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें अब और बढ़ सकती हैं। फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में शुक्रवार को अदालत ने मुख्तार पर आरोप तय कर दिए। प्रयागराज की स्पेशल एमपी एमएलए कोर्ट ने मुख्तार पर पांच धाराओं में आरोप तय किये हैं। स्पेशल कोर्ट ने आईपीसी की धारा 467, 468, 420, 120 बी और एंटी करप्शन एक्ट की धारा 13 (2) के तहत आरोप तय किये हैं।

एडीजीसी क्रिमिनल राजेश गुप्ता ने जानकारी दी। मुख्तार अंसारी पर 10 जून 1987 को फर्जी डाक्यूमेंट्स के आधार पर दोनाली बन्दूक का लाइसेंस लेने का था। मुख्तार के खिलाफ इस मामले में गाज़ीपुर जिले के मोहम्मदाबाद थाने में केस दर्ज हुआ था। इस घटना के तीस साल बाद अब मुख्तार पर आरोप तय हुए हैं।

अब इन्ही धाराओं के तहत मुख्तार के खिलाफ स्पेशल एमपी एमएलए कोर्ट में मुकदमा चलेगा। आज आरोप तय होते वक़्त वीडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिये कोर्ट की कार्यवाही से मुख्तार अंसारी जुड़ा था।

स्पेशल जज आलोक कुमार श्रीवास्तव ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से सुनवाई के दौरान मुख्तार मामले में फैसला सुनाया। हालांकि, माफिया विधायक मुख्तार अंसारी ने आरोपों से इंकार किया। साथ ही फैसले पर दोबारा विचार करने की गुहार लगाई।