Home » आंखें टेढ़ी करते ही EU के 7 देशों और स्विटजरलैंड ने कोविशील्ड को दी मान्यता
देश न्यूज स्वास्थ्य

आंखें टेढ़ी करते ही EU के 7 देशों और स्विटजरलैंड ने कोविशील्ड को दी मान्यता

कोरोना संकट खत्म होन के बाद विदेश की यात्रा कर रहे भारतीय नागरिकों के लिए एक खुशखबर है। अब भारतीय यूरोपीय देशों की यात्रा कर सकेंगे। यूरोपीय संघ की ओर से भारतीय वैक्सिंग को वैक्सीन और भविष्य को मान्यता ना देने पर केंद्र सरकार के “गिव एंड टेक” फॉर्मूला का सुझाते देते ही यूरोपीय संघ के सात देशों और स्विट्ज़रलैंड ने भारत की कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड को मान्यता दे दी है। भारत में यूरोपीय यूनियन के देशों को प्रस्ताव दिया था कि यदि भारतीय वैक्सीन के डिजिटल सर्टिफिकेट को मान्यता नहीं दी जाती है तो यूरो देशों से भारत आने वाले लोगों को भी 15 दिन तक क्वॉरेंटाइन रहना पड़ेगा।

दरअसल, यूरोपीय यूनियन की तरफ से कोविशील्ड और कोवैक्सीन को डिजिटल कोविड-19 क्रिकेट में शामिल नहीं किए जाने के कारण बड़ी समस्या यह उपजी कि भारत से यूरोप जाने वालों को क्वॉरेंटाइन होने की जरूरत पड़ती। इस समस्या के समाधान के लिए भारत सरकार ने “गिव एंड टेक” फार्मूले का प्रस्ताव दिया यानी यूरोपी यूनियन भारत की वैक्सीन को वहां आने जाने के लिए प्रमाणित करती है तो भारत भी डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट को वीजा देने में प्राथमिकता देगा।

इस सर्टिफिकेट को हासिल करने वाले यूरोपीय नागरिकों को भारत में क्वॉरेंटाइन नहीं रहना पड़ेगा। विदेश मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से बुधवार को इस बारे में जानकारी सामने आई थी। यह समस्या 3 दिन पहले उनकी तरफ से डिजिटल कोविड-19 टिकट यानी ग्रीन पास जारी करने से संबंधित नियम से पैदा हुई। इस व्यवस्था में भारत निर्मित वैक्सीन को शामिल नहीं किया गया। हालांकि, यूरोपीय यूनियन ने चीन की वैक्सीन को भी इसमें शामिल नहीं किया है।