Home » दादरी कंटेनर डिपो से उत्तर मध्य रेलवे करेगा सीमेंट की लोडिंग
न्यूज परिवहन

दादरी कंटेनर डिपो से उत्तर मध्य रेलवे करेगा सीमेंट की लोडिंग

प्रयागराज। औधोगिक केंद्र नोएडा के निकट स्थित दादरी कंटेनर डिपो से सीमेंट की लोडिंग प्रारंभ करने के लिए उत्तर मध्य रेलवे के प्रयासों को मंज़ूरी मिल गई है। मार्च 2021 में इनलैंड कंटेनर डिपो दादरी को प्राईवेट फ्रेट टर्मिनल का दर्जा मिला था।

रेलवे के लिए राजस्व अर्जित करने वाला इनलैंड कंटेनर डिपो दादरी उत्तर मध्य रेलवे क्षेत्र का अत्यंत महत्वपूर्ण लोडिंग पॉइंट है।

उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज मंडल परिक्षेत्र में स्थित इनलैंड कंटेनर डिपो दादरी (ICDD) को सीमेंट की आउटवर्ड लोडिंग प्रारंभ करने के लिए रेलवे बोर्ड से मंजूरी मिल गई है। इससे अब नोएडा और ग्रेटर नोएडा के औद्योगिक केंद्र के पास सीमेंट लोडिंग पॉइंट की लंबे समय से चली आ रही आवश्यकता को पूरा किया जा सकता है।

आईसीडी दादरी उत्तर मध्य रेलवे के लिए एक महत्वपूर्ण लोडिंग पॉइंट रहा है, जहां प्रतिदिन औसतन 6 कंटेनर रेक की लोडिंग होती है। कंटेनर रेक की लदान से रेलवे को औसत लगभग रुपये 17.5 करोड़ का मासिक राजस्व प्राप्त होता है।

उत्तर मध्य रेलवे द्वारा कंटेनर यातायात के अलावा अन्य वस्तुओं की लोडिंग के लिए प्रयासों के परिणामस्वरूप सृजित की गई मांग को देखते हुए, आईसीडी दादरी को इनवर्ड यातायात की सुविधा के साथ 12.03.202 1 से प्राइवेट फ्रेट टर्मिनल का दर्जा दिया गया था। कुछ तकनीकी आवश्यकताओं के दृष्टिगत, टर्मिनल से आउटवर्ड लोडिंग के लिए रेलवे बोर्ड से मंजूरी की आवश्यकता थी जिसके लिए उत्तर मध्य रेलवे ने प्रयास किए।

23.06.2021 को, रेलवे बोर्ड ने आउटवर्ड सीमेंट लोडिंग शुरू करने के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। इस कदम से न केवल नोएडा एवं उत्तर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सीमेंट व्यापारियों को फायदा होगा, बल्कि भारतीय रेलवे को भी महत्वपूर्ण राजस्व मिलेगा।

अब तक, स्थानीय सीमेंट व्यापारी जो सड़कों के माध्यम से सीमेंट का परिवहन करते थे, अब अपने उत्पादों को कम समय और कम परिवहन लागत के साथ दूर-दराज के गंतव्यों तक पहुँचाने में सक्षम होंगे।
दादरी से सीमेंट की आउटवर्ड लोडिंग शुरू करना न केवल उत्तर मध्य रेलवे की बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट द्वारा प्राप्त एक महत्वपूर्ण सफलता है, बल्कि इससे दादरी-नोएडा क्षेत्र में अतिरिक्त स्थानीय रोजगार भी पैदा होने की संभावना है।

About the author

Ranvijay Singh

Add Comment

Click here to post a comment