Home » प्रोन्नत रेल अफसरों को भी 5 वर्ष में मिले पदोन्नति, संघ का दावा- घेर लेती है कुंठा
न्यूज परिवहन

प्रोन्नत रेल अफसरों को भी 5 वर्ष में मिले पदोन्नति, संघ का दावा- घेर लेती है कुंठा

उत्तर मध्य रेलवे प्रोन्नत अधिकारी संघ ने दो दिवसीय अधिवेशन में सीधी भर्ती वाले अफसरों की तरह प्रत्येक पांच वर्ष में पदोन्नति की मांग उठाई है। प्रोन्नत अधिकारियों का कहना है कि सीधी भर्ती वाले अधिकारियों के समान ही प्रोन्नत अधिकारियों को कैरियर प्रोग्रेसन उपलब्ध होना चाहिए। सीधी भर्ती वाले अधिकारी 30-35 वर्षों के कार्यकाल में लगभग 07 स्तरों में पदोन्नत किये जाते है, जिसका औसत लगभग 05 वर्षों में एक पदोन्नति है।

अधिवेशन में वक्ताओं ने कहा कि सीधी भर्ती वाले अफसरों की ही तरह प्रोन्नत अधिकारियों को भी लगभग 05 वर्षो में अगली पदोन्नति सुलभ होनी चाहिये। ऐसा न होने से प्रायः साथ-साथ समान पद एवं जिम्मेदारी का कार्य करने वाले सीधी भर्ती वाले अधिकारी प्रोन्नत अधिकारियों के नियंत्रक पद पर आसीन हो जाते है, जिससे प्रोन्नत अधिकारियों की मान-सम्मान को ठेस पहुॅचती है। साथ ही मनोवैज्ञानिक कुंठा के कारण रेल कार्य निष्पादन एवं पारिवारिक उत्पादकता भी प्रभावित होती है। निर्णय लिया गया कि इस स्थिति से निकलने के लिए संघ संघर्ष जारी रखेगा एवं उपलब्ध मंचों पर इस असमानता को दूर करने हेतु प्रयास करेगा।

उत्तर मध्य रेलवे प्रोन्नत अधिकारी संघ के दो दिवसीय वार्षिक महासम्मेलन का समापन 25 जून 2021 को हुआ। उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय में आयोजित सम्मेलन को प्रारम्भ करते हुए महासचिव एसएस पराशर ने प्रोन्नत अधिकारी संघ की वार्षिक रिपोर्ट कार्यकारिणी के समक्ष रखी।

इस सम्मेलन में उत्तर मध्य रेलवे के आगरा, झाॅसी एवं प्रयागराज मण्डल के पदाधिकारी ऑनलाइन (वीडियो कांफ्रेंसिंग) के माध्यम से सहभाग किया एवं प्रोन्नत अधिकारी संघ के समक्ष उपस्थित चुनौतियों पर अपने विचार व्यक्त किये। इस विचार मंथन महासम्मेलन में प्रोन्नत अधिकारियों के कैरियर प्रोगेसन का मुद्दा प्रमुखता से छाया रहा।

भारतीय रेलवे अफिसर्स फेडरेशन अखिल भारतीय स्तर पर रेलवे के प्रोन्नत अधिकारियों का प्रतिनिधित्व करती है। उत्तर मध्य रेलवे प्रोन्नत अधिकारी संघ इस फेडरेशन से सम्ब़द्ध एक मान्यता प्राप्त इकाई है, जो उत्तर मध्य रेलवे के प्रोन्नत अधिकारियों के हितों के संरक्षरण के लिए कार्य करती है।

एसएस सिंह अध्यक्ष और डीके भारद्वाज महासचिव

महासम्मेलन के द्वितीय दिन नई कार्यकारिणी का भी गठन किया गया। इसमें अध्यक्ष, एसएस सिंह, उप मुख्य इंजीनियर/निर्माण, महासचिव, डीके भारद्वाज, सहायक कार्यकारी इंजीनियर/सीपीओएच तथा कार्यकारी अध्यक्ष, अनुपम सक्सेना, उप मुख्य वाणिज्य प्रबंधक/यूटीएस समेत अन्य 15 पदाधिकारियों को संघ के विभिन्न पदों की जिम्मेदारी सौपीं गई।

महासम्मलेन के अन्तिम सत्र में संघ ने अपने कठिन परिश्रमी एवं मृदुभाषी महासचिव एसएस पराशर को मुख्य इंजीनियर के पद पर ज्वाईन करने जाने हेतु एवं रमापति तिवारी, उप मुख्य सामग्री प्रबंधक को इस माह 30 जून को सेवा निवृत्ति हेतु विदाई दी गयी। महासम्मेलन को समापन करते हुए अध्यक्ष एसएस सिंह ने प्रोन्नत अधिकारियों के बीच आपसी एकता एवं मधुर संबंध के महत्व को रेखांकित किया एवं सभी सहभागियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।