Home » बंदिशें खत्म होते ही कामगारों की ट्रेनों पर भीड़, 7 दिनों में 32.56 लाख यात्री लौटे
न्यूज परिवहन

बंदिशें खत्म होते ही कामगारों की ट्रेनों पर भीड़, 7 दिनों में 32.56 लाख यात्री लौटे

कोरोना महामारी की दूसरी लहर को थामने के लिए लगे लॉकडाउन की बंदिशें खत्म होने और संक्रमण का कहर रुकने के साथ ही कामगारों की वापसी भी शुरू हो गई है। ट्रेनों में भीड़ बढ़ते ही रेलवे ने चरणबद्ध तरीके से ट्रेनों की संख्या में इजाफा किया है। रेलवे का दावा है कि सात दिनों में 32.56 लाख मुसाफिरों ने ट्रेनों में यात्रा की। इनमें से ज्यादातर यात्री उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल और ओडिसा जैसे क्षेत्रों से निकले हैं। यही नहीं, अगले 10 दिनों 19 जून से 28 जून के लिए प्रवासी कामगारों और अन्य यात्रियों सहित 29.15 लाख यात्रियों ने पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल और ओडिशा जैसे क्षेत्रों से दिल्ली, मुंबई, पुणे, सूरत, अहमदाबाद और चेन्नई सहित विभिन्न गंतव्यों के लिए लंबी दूरी की मेल एक्सप्रेस ट्रेनों द्वारा बुकिंग कराई है।

रेलवे के अनुसार 11 जून से 17 जून के दौरान प्रवासी कामगारों और अन्य यात्रियों सहित लगभग 32.56 लाख यात्रियों ने लंबी दूरी की मेल एक्सप्रेस ट्रेनों के द्वारा पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, बंगाल और ओडिशा जैसे क्षेत्रों से दिल्ली, मुंबई, पुणे, सूरत, अहमदाबाद और चेन्नई जैसे क्षेत्रों के लिए यात्रा की है। यात्रियों की ये संख्या 110.2 प्रतिशत की औसत ऑक्युपैंसी के साथ है यानि ट्रेनें खचाखच भरकर चल रही हैं।

बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और ओडिशा जैसे राज्यों से मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद, बंगलुरू और चेन्नई जैसे मेट्रो शहरों के लिए प्रवासी कामगारों के सफर को आसान बनाने के लिए, भारतीय रेल मेल/ एक्सप्रेस स्पेशल, हॉलिडे स्पेशल और समर स्पेशल ट्रेनों का परिचालन कर रही है। इन सभी ट्रेनों को कोविड प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए पूरी तरह आरक्षित ट्रेनों के रूप में परिचालित किया जा रहा है। इन ट्रेनों से यात्रा के लिए आरक्षण काउंटरों पर पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम (पीआरएस) के माध्यम से और ऑनलाइन ई-टिकटिंग प्रणाली द्वारा बुकिंग उपलब्ध है।

18.06.2021 तक, भारतीय रेल द्वारा 983 मेल/ एक्सप्रेस और हॉलिडे स्पेशल (कोविड पूर्व के स्तर से 56 प्रतिशत) ट्रेनें परिचालित हो रही हैं। इसके अलावा, काम पर लौटने के इच्छुक लोगों की आवाजाही आसान बनाने के लिए 1,309 समर स्पेशल का भी संचालन किया गया है। ये समर स्पेशल ट्रेनें मुख्य रूप से बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, ओडिशा व असम से दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई, पुणे, बंगलुरू आदि बड़े शहरों को संपर्क उपलब्ध कराती हैं।

मांग के आकलन और इस क्रम में कामगारों की आवाजाही आसान बनाने के लिए मंडल रेल कार्यालय सक्रिय रूप से विभिन्न उद्योग संगठनों व कारोबारी समूहों के साथ समन्वय बनाए हुए है। समर स्पेशल ट्रेनों का गोरखपुर-मुंबई, भागलपुर-मुंबई, भुवनेश्वर-पुणे, दानापुर-पुणे, बरौनी- अहमदाबाद, पटना-दिल्ली, समस्तीपुर-मुंबई, सियालदह-दिल्ली, रक्सौल-दिल्ली, सहरसा-दिल्ली, दानापुर-सिकंदराबाद, रक्सौल-सिकंदराबाद, पाटलिपुत्र-बंगलुरू, छपरा-मुंबई, गुवाहाटी-बंगलुरू, गोरखपुर-हैदराबाद आदि विभिन्न मूल-गंतव्यों के बीच संचालन हो रहा है।