Home » वैक्सीनेशन: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य नहीं, 71% सेंटर ग्रामीण क्षेत्र में
न्यूज स्वास्थ्य

वैक्सीनेशन: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य नहीं, 71% सेंटर ग्रामीण क्षेत्र में

वैक्सीनेशन के लिए अब पहले से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य नहीं होगा। 18 वर्ष या उससे अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति सीधे अपने नजदीकी टीकाकरण केन्द्र में जा सकते हैं, जहां वैक्सीन लगाने वाले उसका ऑन-साइट या ऑन-द-स्पॉट रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे। ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों तक वैक्सीन बिना किसी देरी के पहुंच सके इसके लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि को-विन पर राज्यों द्वारा अब तक ग्रामीण या शहरी के रूप में वर्गीकृत लगभग 71 प्रतिशत टीकाकरण केंद्र ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित हैं।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, कुल 69,995 टीकाकरण केन्द्रों में से 49,883 केंद्र ग्रामीण इलाकों में हैं। ऐसे इलाकों में वैक्सीन लगवाने के लिए केवल कोविन ही नहीं बल्कि दूसरे माध्यमों से भी रजिस्ट्रेशन करवाए जा रहे हैं। दूसरे माध्यमों में, स्वास्थ्य कार्यकर्ता या आशाकर्मी के माध्यम से अपने नजदीकी टीकाकरण केन्द्रों पर सीधे ऑन-साइट रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। इसके साथ 1075 हेल्पलाइन के माध्यम से भी वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन की सुविधा शुरू कर दी गई है।

को-विन पर रजिस्टर्ड कुल लाभर्थियों में से 58 फीसद लोग ऑन-साइट वाले

बता दें, ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण सुचारू रूप से चलता रहे इसके लिए सभी तरीके अपनाए जा रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, 13 जून 2021 तक, को-विन पर रजिस्टर्ड कुल 28.36 करोड़ लाभार्थियों में से, 16.45 करोड़ यानि 58 फीसदी लाभार्थियों को ऑन-साइट मोड में रजिस्टर किया गया है। इसके साथ, 13 जून 2021 तक को-विन पर दर्ज कुल 24.84 करोड़ वैक्सीन डोज में से 19.84 करोड़ डोज ऑन – साइट या वॉक-इन माध्यम से प्रदान किये गए हैं। यह टीकों की कुल खुराक का लगभग 80 प्रतिशत है।

59 प्रतिशत से अधिक टीकाकरण केंद्र ग्रामीण इलाकों में स्थित

लोगों की सहूलियत के लिए केंद्र सरकार द्वारा जगह-जगह वैक्सीनेशन की सुविधाएं दी गई हैं। 1 मई 2021 से लेकर 12 जून 2021 तक, टीकाकरण सेवाएं प्रदान करने वाले कुल 1,03,585 कोविड टीकाकरण केन्द्रों में से 26,114 उप-स्वास्थ्य केन्द्र, 26,287 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और 9,441 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में संचालित हैं। यह कुल टीकाकरण केन्द्रों का लगभग 59.7 प्रतिशत है। बता दें, उप-स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में चलने वाले ये सभी कोविड वैक्सीनेशन सेंटर ग्रामीण इलाकों में स्थित हैं जहां लोग ऑन-साइट रजिस्ट्रेशन और वैक्सीनेशन के लिए सीधे जा सकते हैं।

जनजातीय क्षेत्रों में टीकाकरण कवरेज

अब अगर जनजातीय जिलों की बात करें तो 3 जून, 2021 तक के को-विन पर उपलब्ध आंकड़ों को देखें तो पता चलता है कि जनजातीय जिलों में प्रति दस लाख की आबादी में टीकाकरण राष्ट्रीय औसत से अधिक है। मंत्रालय के मुताबिक, 176 जनजातीय जिलों में से 128 जिले देशभर के कुल वैक्सीनेशन कवरेज से बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन जनजातीय जिलों में राष्ट्रीय औसत की तुलना में अधिक वॉक-इन टीकाकरण हो रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, जहां जनजातीय जिलों में प्रति दस लाख की आबादी पर खुराकों की कुल संख्या 1,73,875 है वहीं यही आंकड़ा राष्ट्रीय स्तर पर 1,68,951 है।

150 दिनों में दी जा चुकी हैं 26 करोड़ से अधिक डोज

दरअसल, भारत में कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत महज 151 दिनों में 26 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अब तक 26 करोड़ 55 लाख से अधिक कोविड टीके लगाए गए हैं। देशभर में व्यापक टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण चल रहा है। इसमें 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोग शामिल हैं। वहीं बच्चों पर वैक्सीन ट्रायल चल रहा और उम्मीद है कि जल्द ही उनके लिए भी वैक्सीन उपलब्ध हो जाएंगी।

About the author

Ranvijay Singh

Add Comment

Click here to post a comment