Home » #UPBJP : सरकार और संगठन में बदलाव की अटकलें पानी-पानी, बीएल संतोष दे गए सेवा-समर्पण का मंत्र
उत्तर प्रदेश न्यूज राजनीति

#UPBJP : सरकार और संगठन में बदलाव की अटकलें पानी-पानी, बीएल संतोष दे गए सेवा-समर्पण का मंत्र

वर्ष 2022 की पहली तिमाही में विधानसभा चुनाव होने के सात आठ महीने पहले उत्तर प्रदेश सरकार और भारतीय जनता पार्टी संगठन में बड़े बदलाव की सप्ताहभर से चल रही अटकलबाजियों पर विराम लग गया है। राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष ने एक ट्वीट कर तीन दिवसीय प्रवास और योगी सरकार के मंत्रियों और प्रदेश अध्यक्ष समेत विभिन्न नेताओं से वार्ता के बाद बदलाव के सभी अटकलों पर पानी फेर दिया। संतोष ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों वाले अभिभावकों के टीकाकरण और करोना महामारी में उठाए गए कदमों की तारीफ की है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की रणनीति को समझने वाले बीएल संतोष के ट्वीट के अंदर छिपे भावों की मीमांसा कर यह तलाशने की कोशिश कर रहे हैं कि विधानसभा चुनाव के पहले उत्तर प्रदेश की रणनीति को लेकर संगठन में क्या चल रहा है? यही नहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दिल्ली में होने जा रही तीन दिवसीय बैठक में भी इस एजेंडे पर चर्चा हीने की संभावना है।

RSS के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले इस सप्ताह की शुरुआत में राजनीतिक रूप से अहम उत्तर प्रदेश का दौरा कर संघ के पदाधिकारियों की बैठक कर चुके हैं। माना जा रहा है कि इस दौरान होसबोले ने कोविड-19 के प्रबंधन, शवों को लेकर फैलाई गई अफवाहों के साथ ही अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव से जुड़े बिंदुओं का भी फीडबैक किया था। इसमें स्थानीय कार्यकर्ताओं और विधायकों की नाराजगी जैसे मुद्दों पर भी चर्चा बताई जा रही है। हालांकि, संघ की रणनीति की भनक पहले भी किसी को नहीं लगती रही है। इस बार भी तमाम अटकलबाजियां धरी रह गईं।

गौरतलब है कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को शीर्ष नेतृत्व में विमर्श के सिलसिले में दिल्ली बुलाया था। इसके बाद ही अटकलबाजियों और अफवाहों के पंख निकल आए। चर्चा यह थी कि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी अध्यक्ष की कमान दुबारा संभाल सकते हैं। योगी आदित्यनाथ के बदलाव की भी चर्चा रही। गुजरात कैडर के आईएएस की नौकरी छोड़कर भाजपा एमएलसी बने शर्मा के पदों को लेकर भी तमाम किस्म की अटकल बाजियां आई, परंतु बीएम संतोष के ट्वीट ने सभी की हवा निकाल दी।

राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष ने तीन दिवसीय प्रवास में 26 घंटे के दौरान डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के साथ अलग-अलग करीब डेढ़ दर्जन मंत्रियों से मुलाकात की। प्रदेश का फीडबैक लिया। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और उनकी मीडिया टीम से भी तमाम जानकारियां हासिल की। लखनऊ से रवाना होने के पहले बीएल संतोष ने सेवा कार्यों से जनता का दिल चुनाव से पहले जीतने और हर हाल में चुनावी जीत हासिल करने का स्पष्ट संदेश भी दिया। यह हिदायत भी दी कि विपक्ष के दुष्प्रचार के छलावे में पार्टी नेता न फंसें। सेवा कार्य के जरिए ही राजनीति को आगे बढ़ाएं। माना जा रहा है कि आरएसएस की बैठक के बाद यूपी चुनाव की रणनीति को संगठन धार देना शुरू कर देगा। जुलाई से इसका असर दिखना भी शुरू हो जाएगा।

About the author

Ranvijay Singh

Add Comment

Click here to post a comment