Home » निजी अस्पतालों की मनमानी, मुनाफाखोरी पर हरियाणा ने दिखाई सख्ती, खट्टर से सीखे योगी सरकार
खेल

निजी अस्पतालों की मनमानी, मुनाफाखोरी पर हरियाणा ने दिखाई सख्ती, खट्टर से सीखे योगी सरकार

कोरोना महामारी को आपदा में अवसर बना चुके निजी अस्पतालों पर हरियाणा कि खट्टर सरकार नकेल कसने जा रही है। सरकार ने निजी अस्पतालों के काॅकस के सामने झुकने के बजाए सख्ती का रुख अपनाया है। मुनाफाखोरी को रोकने और ऑक्सीजन में आत्मनिर्भर बनने का हुक्म सुनाया है। उत्तर प्रदेश को भी हरियाणा की तरह निजी अस्पतालों की मुनाफाखोरी प, नकेल कसनी चाहिए।

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा के सारे अस्पतालों को हम ऑक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर बनाने जा रहे हैं। 6 प्लांट शुरू हो गए हैं। 60 प्लांट केंद्र सरकार ने हमें और मंजूर किए हैं। सभी अस्पतालों में इसे लगाने का काम शुरू हो गया है।

कहा कि हमने निजी अस्पतालों को भी हिदायत दे दी है कि हर निजी अस्पताल को भी अपनी आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाना पड़ेगा। अगर वे नहीं लगाएंगे तो सख्त कार्रवाई करेंगे।

विज ने कहा कि यही नहीं, अगर कोई भी मुनाफाखोरी करने की कोशिश करेगा और दवा के ज्यादा पैसे लेगा तो इसकी शिकायत के लिए हमने एक हेल्पलाइन बनाई है। इसकी निगरानी खुद DGP कर रहे हैं। इसका नंबर 18001801314 है। इस पर कोई भी फोन करके बता सकता है। उसकी पहचान गुप्त रखी जाएगी। हमने 40-45 लोगों को गिरफ्तार किया है। अनिल विज

गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोरोना में आयुर्वेदिक दवाओं का बहुत बड़ा रोल है। लोगों को मालुम नहीं है कि कब कौन सी दवा लेनी है। इसलिए मैंने आज से टेलीमेडिसिन सेवा शुरू की है। 1075 पर जब कोई फोन करेगा तो विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम बताएगी की कौन से लक्षण में कौन सी दवा लेनी है: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज