National Wheels

कृषि कानूनों की वापसी पर किसानों, व्यापारियों ने जताई खुशी

प्रयागराज: कृषि कानूनों की वापसी पर लोकतंत्र समर्थक लोगों में खुशी है। प्रयागराज महानगर उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष एवं प्रांतीय य वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजीव कृष्ण श्रीवास्तव ‘बंटीभैया‘ ने कहा कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को वापस लेने से पुनः स्पष्ट हुआ कि “लोकतंत्र में सत्याग्रह व आंदोलन” की देश की आजादी के बाद आज भी धार कम नहीं है। आज भी वह ऐसा रास्ता है जिससे “तानाशाही प्रवृत्ति की शक्तियों को झुकाया जा सकता है”

जिला अध्यक्ष सुशांत केसरवानी, वरिष्ठ महामंत्री अनूप वर्मा और निखिल पांडेय ने किसानों की इस महत्वपूर्ण खुशी में गांधी जी एवं शास्त्रीजी को नमन करते हुए व्यापारियों के विशाल समूह को संबोधित करते हुए प्रयागराज कार्यालय चौक पर कहा कि आज व्यापारी खाद्य तेल, तिलहन व दलहन पर लगाई गई स्टॉक लिमिट, फूड एक्ट के काले कानूनों,जीएसटी में हो रहे उत्पीड़न एवं सभी कागजात पूरे होने पर भी रास्ते में अवैध वसूली होने, गाड़ियों को रोक कर नाजायज जुर्माने, अवैध वसूली, व्यापारियों के साथ रोजाना हो रही लूट व हत्या की वारदातें, बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों का नाजयाज उत्पीड़न से व्यापारी अत्यंत दुखी और परेशान है।

कहा कि केवल आंकड़ों को छुपाया जा रहा है। प्रतिदिन कहीं ना कहीं से व्यापारियों की आत्महत्या के समाचार प्राप्त हो रहे हैं। व्यापारी जगत तबाह व वर्बाद होने के कगार पर है। व्यापारियों एवं उधमियों के सम्मान की लढाई के लिऐ एक वृहद स्तर पर आंदोलन की रणनीति बनाने की गंभीर आवश्यकता है।

इस संबंध में उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल, भारतीय उद्योग व्यापार मंडल द्वारा गंभीरता से प्रयास जारी है।

महानगर अध्यक्ष एवं प्रांतीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजीव कृष्ण श्रीवास्तव बंटी भैया द्वारा स्पष्ट रूप से संदेश दिया गया कि केंद्र और राज्य की सरकारों सहित सरकारी मशीनरी को स्पष्ट रूप से मानना ही होगा कि देश की सीमा पर जवान, देश के खेतों में हमारा किसान, और देश की अर्थव्यवस्था में उद्यमी और व्यापारी सर्वोपरि है इनके हर दुख दर्द को समझना होगा

इस दौरान मनीष गुप्ता, राजेश केसरवानी कोषाध्यक्ष, धर्मेंद्र कुमार भैयाजी, गल्ला तिलहन व्यापार मंडल के सतीश केसरवानी, अभिषेक केशरवानी, तरुण प्रताप सिंह, दिनेश सिंह, पं अवनीश शुक्ला, प्रशांत शर्मा, लिप्पी पाठक, राजीव तिवारी,प्रशांत पांडे, नमन ज्योत सिंह, राजकुमार केसरवानी, सुशील जायसवाल, शुभम शर्मा, अन्नु केसरवानी, सुमित सिंह बागी, मुसाब खान, विशाल वर्मा, विवेक खन्ना, नीरज साहू, संदीप जयसवाल, विक्की जौहरी आदि व्यापारी प्रमुख रूप से रहे

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *