National Wheels

कोवैक्सिन: अमेरिका में 2-18 वर्ष के बच्चों को देने की मांगी अनुमति

दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन से को वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद भारतीय फार्मा उद्योग के लिए एक और बड़ी खुशखबरी जल्द मिल सकती है। भारत बायोटेक की अमेरिकी सहयोगी कंपनी ने अमेरिका में 2-18 साल की आयु वाले बच्चों को कोवैक्सिन के इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति मांगी है।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार हैदराबाद स्थित फार्मा प्रमुख भारत बायोटेक के यूएस पार्टनर ओक्यूजेन ने यूएस एफडीए से दो से 18 साल के उम्र के बच्चों को कोवैक्सिन (#CoVaxine) देने के लिए इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन (ईयूए) की मांग की है।

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूरोपियन देशों के दौरे के वक्त कहा था कि भारत दुनिया भर को 500 करोड़ दो कोरोना वैक्सीन देने के लिए तैयार है। भारत में अब तक करीब 107 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन डोज दी जा चुकी है।

इटली दौरे से लौटने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उन 50 जिलाधिकारियों से भी बातचीत की, जिन जनपदों में 50 फ़ीसदी से कम लोगों को वैक्सीन की डोज लगी है। इसके साथ ही मोदी ने कहा कि अब घर घर डोज देने पहुंचाने का अभियान चलेगा।

अब इस चरण में जिला, तहसील और ब्लॉक स्तर पर समीक्षा नहीं की जाएगी। बल्कि, माइक्रो लेवल पर अभियान चलाकर यह सुनिश्चित किया जाए कि हर जरूरतमंद व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन लगाई जाए।

प्रधानमंत्री ने जिलाधिकारियों से इसके लिए नए नए तरीके प्रयोग करने के साथ ही धर्मगुरुओं से बातचीत कर उनकी मदद लेने को भी कहा है।

माना जा रहा है कि भारत में अभी करीब 20 फ़ीसदी ऐसे लोग हैं जो कोरोना वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगवा सकते हैं। इन लोगों को ही सरकार लक्षित कर रही है। इसके साथ ही दूसरी डोज लेने वालों की संख्या बढ़ाने पर भी जोर दिया जा रहा है। उन लोगों को भी सामने लाने की कोशिश की जा रही है जिन्होंने पहली डोज तो ली, लेकिन दूसरी दोष लेने के लिए तय वक्त पर सामने नहीं आए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *