Home » आतंकियों के निशाने पर थे दशहरा, दीपावली, अयोध्या और चुनाव, साजिश नाकाम
अपराध न्यूज

आतंकियों के निशाने पर थे दशहरा, दीपावली, अयोध्या और चुनाव, साजिश नाकाम

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई अफगानिस्तान की सत्ता में काबिज हुई तालिबानियों, हक्कानी नेटवर्क और कश्मीर में सक्रिय आतंकी गिरोहों की मदद से केवल कश्मीर में ही आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की साजिश नहीं रच रही है, स्थानीय युवाओं को धर्म के नाम पर आकर्षित कर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के साथ ही राम जन्मभूमि से जुड़ी अयोध्या, आने वाले त्योहारों दशहरा और दीपावली पर भी विस्फोट और आतंकी हमले कर भारत को जख्म देने की साजिश रची बुनी है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल, उत्तर प्रदेश एटीएस और एसटीएफ ने मिलकर आईएसआई की साजिशों का भंडाफोड़ करते हुए उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और दिल्ली से से संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। इनके कई साथियों से भी पूछताछ की जा रही है। साथ ही कुछ अन्य संदिग्धों की गिरफ्तारी होने की भी संभावना है।

यूपी पुलिस के एडीजी लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने मंगलवार की देर शाम सूबे के चार जिलों लखनऊ, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज में एसटीएफ की छापेमारी करने, तीन लोगों को हिरासत में लेने और प्रयागराज से आईडी विस्फोटक बरामद होने की जानकारी दी थी। यह विस्फोटक जीशान कमर के घर से मिला है।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की मदद से यूपी एटीएस और एसटीएफ ने मिलकर त्योहारों के आसपास महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में धमाका करने और राजनेताओं की हत्या करने की साजिशों का खुलासा करते हुए विस्फोटक और हथियार भी बरामद किये हैं। आरोप है कि गिरफ्तार छह में से दो आतंकियों को पाकिस्तान में 15 दिनों की ट्रेनिंग भी मिल चुकी है।

सभी को मिले टारगेट

स्पेशल सेल के अनुसार गिरफ्तार आतंकियों को अलग-अलग लक्ष्य दिए गए हैं। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम के करीबी समीर को आईएसआई ने गिरफ्तार आतंकियों को भारत में हथियार विस्फोटक व हवाला के जरिए पैसे मुहैया कराने की जिम्मेदारी सौंपी थी। आईएसआई के निर्देश पर ही 22 अप्रैल को ओसामा लखनऊ से ओमान की राजधानी मस्कट गया। मस्कट में ओसामा को प्रयागराज का जीशान मिला। उनके साथ 15 अन्य लोग भी थे, जो बांग्लाभाषी थे। उन लोगों को कई समूहों में बांटा गया। ओसामा और जीशान को एक समूह में रखा गया। मस्कट से उन्हें नाव से पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह लाया गया। यहां से कराची के एक फार्म हाउस ले जाया गया, जहां पाकिस्तानी सेना के दो जवानों ने हथियार चलाने और विस्फोटक बनाने की ट्रेनिंग दी।

अंडरवर्ल्ड से मदद ले रही आईएसआई

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के अफसरों के मुताबिक अंडरवर्ल्ड ऑपरेटिव जान मोहम्मद शेख उर्फ समीर कालिया का मूलचंद्र उर्फ लाला से अनीस इब्राहिम ने संपर्क कर आया था। इन सभी को दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में धमाके के लिए स्थान चिन्हित करने के लिए कहा गया।

बताते हैं कि स्पेशल सेल की टीम पिछले 2 महीने से मामले की पड़ताल कर रही है। जांच के बाद राजस्थान से दिल्ली आने के दौरान ओसामा को गिरफ्तार किया था।

ये आतंकी गिरफ्तार

गिरफ्तार हुए आतंकियों में मोहम्मद अबू खान को दिल्ली के सराय काले खां से, जीशान को प्रयागराज, मोहम्मद आमिर जावेद को लखनऊ, मूलचंद उर्फ साजू को रायबरेली से पकड़ा गया है। सबसे पहले अंडरवर्ल्ड ऑपरेटिव जान मोहम्मद शेख उर्फ समीर कालिया को मुंबई से गिरफ्तार किया गया था। उसी ने पूछताछ के बाद इस माॅड्यूल का खुलासा किया।